मर्दों को भी होता है स्तन कैंसर - Male Breast Cancer in Hindi

Male Breast Cancer - Explained in Hindi

आप शायद यह सोच रहे होंगे - पुरुषों के स्तन नही होते हैं, फिर उन्हें स्तन कैंसर कैसे हो सकता है? दरअसल, हर किसी के पास स्तन टिश्यू होते हैं. महिलाओं के शरीर में मौजूद हॉर्मोन उनके स्तन टिश्यू को पूर्ण स्तन मे विकसित कर देते हैं. मगर पुरुषों में ये हॉर्मोन नही होते. उनके स्तन टिश्यू आमतौर पर सपाट और छोटे होते हैं. लेकिन कभी-कभी पुरुष कुछ दवाइयों के कारण या असामान्य हॉर्मोन के स्तर के कारण वास्तविक स्तन ग्लैंड टिश्यू विकसित कर सकते हैं.

male breast cancer

पुरुष स्तन कैंसर एक दुर्लभ बीमारी है. यह सभी स्तन कैंसर के मामलों का 1 प्रतिशत से भी कम होता है. भले ही पुरुषों में स्तन कैंसर के मामले बहुत कम होते हैं, लेकिन हर साल इसके मामले बढ़ते जा रहे हैं. हाल के अध्ययन से यह पता चला है कि पुरुष स्तन कैंसर के मामलों में हर साल लगभग 1.1 प्रतिशत की वृद्धि हो रही है.

यह भी पढ़ें - क्या होता है कैंसर?

पुरुषों में ज्यादातर स्तन कैंसर आनुवंशिक, हॉर्मोन और पर्यावरण के कारण होता है. उन पुरुषों को स्तन कैंसर होने का खतरा ज्यादा रहता है जिनके परिवार के इतिहास में किसी को स्तन कैंसर रहा हो. ऐसे लोगों को कैंसर होने का खतरा बाकियों के मुकाबले दो गुना रहता है.

असंतुलित हॉर्मोन के कारण स्तन कैंसर का खतरा बढ़ जाता है. एस्ट्रोजेन हॉर्मोन बढ़ने से और टेस्टोस्टेरोन के कमी से पुरुषों को स्तन कैंसर का खतरा बढ़ जाता है. यह असंतुलन वृषण असामान्यताओं के कारण हो सकता है. कई दवाओं के प्रभाव से उत्पन्न लिवर की बीमारियां, एस्ट्रोजेन के वृद्धि का कारण हो सकते हैं. पुरुषों में एस्ट्रोजेन के वृद्धि का कारण अकसर मोटापा होता है. गाइनेकोमेस्टीआ (पुरुषों में स्तन ग्लैंड टिश्यू का बढ़ जाना), टेस्टोस्टेरोन की कमी और गोनैडोट्रोफीन (हॉर्मोन जो ओवेरियन और वृषण कार्य को नियंत्रित करता है) का बढ़ जाना पुरुषों में स्तन कैंसर का मुख्य कारण होता है.

गर्मी और विद्युत-चुम्बकीय रेडिएशन के संपर्क में ज्यादा देर तक रहना भी पुरुषों में स्तन कैंसर का कारण होता है. उन पुरुषों में स्तन कैंसर के मामले ज्यादा देखे गए हैं जो गर्म वातावरण में काम करते हैं, खासकर वे लोग जो ब्लास्ट फर्नेस, स्टील कारखाने, फिनिशिंग और रोलिंग मिल में काम करते हैं.

ये स्तन कैंसर के मुख्य लक्षण हैं- निप्पल का दर्द, निप्पल उल्टा हो जाना, स्तन में गांठ का महसूस होना, निप्पल से कोई तरल पदार्थ निकलना, निप्पल पर दाग या फोड़ा हो जाना.

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि दोनों स्तनों का बढ़ना आमतौर पर कैंसर नहीं है. कभी-कभी कुछ दवाओं, वजन बढ़ना, शराब का ज्यादा सेवन और मैरिजुआना के उपयोग के कारण भी स्तन बढ़ने की समस्या हो सकती है.


0 comments:

We will be happy to read your comment...